ाष्ट्र कt ६८वेंगणतंत्र दिवस कt...

of 13 /13
1 रार के ६८व गणत दिवस के अवसर पर ग जरात के माननीय रायपाल ी ओ. पी. कोहली जी का ग जरात के नागररको के नाम स ि. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . रार के ६८व गणत दिवस पर जरात िेश के मेरे यारे भाइय एव बहन को हादििक बधाई एव भकामनाए । िेश-दविेश म थायी हमारे ग जराती परवार को भी म ियप विक बधाई एव भकामनाए िता ह। आज हमारा रार एक के बाि एक दवकास के नये पायिान पर आगे बढ रहा है। गदतशील दवचार के धनी हमारे माननीय धानम ी ी नरेरभाई मोिी जी के नेतृव म भारत ने दवभर म अपना अदिम थान िहण दकया है। िेश आज दवकास के पथ पर अिसर बना है , तब "दिदजटल इदडिया", "कील इदडिया", "टाटिअप इदडिया", "ईज ऑफ ि दबजनेस", "वछ भारत अदभयान" जैसे कई महवाका ी कायिम का दयावयन बख बी हो रहा है। गणत दिवस अथाित जनता के हाथ म सा। इस सीधी और सरल याया को चररताथि करना दकसी भी शासन यवथा के दलए आसान कायि नह है। पर झे कहते हुए सनता हो रही है दक अपना ग जरात राय एक ऐसा राय है जहा शासन की नव म जनता के

Upload: others

Post on 26-Mar-2020

8 views

Category:

Documents


0 download

TRANSCRIPT

  • 1

    राष्ट्र के ६८वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर गजुरात के माननीय राज्यपाल श्री ओ. पी.

    कोहली जी का गजुरात के

    नागररको के नाम संिशे

    . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .

    राष्ट्र के ६८वें गणतंत्र दिवस पर

    गजुरात प्रिशे के मेरे प्यारे भाइयों एवं

    बहनों को हादििक बधाई एवं

    शभुकामनाए।ं िशे-दविशेों में स्थायी

    हमारे गजुराती पररवारों को भी मैं

    हृियपवूिक बधाई एवं शभुकामनाए ंितेा

    ह ूँ।

    आज हमारा राष्ट्र एक के बाि एक

    दवकास के नये पायिान पर आगे बढ रहा

    ह।ै गदतशील दवचारों के धनी हमारे

    माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्रभाई मोिी

    जी के नेततृ्व में भारत ने दवश्वभर में अपना

    अदिम स्थान िहण दकया ह।ै िशे आज

    दवकास के पथ पर अिसर बना है, तब

    "दिदजटल इदडिया", "स्कील इदडिया",

    "स्टाटिअप इदडिया", "ईज ऑफ िूइगं

    दबजनेस", "स्वच्छ भारत अदभयान"

    जैसे कई महत्वाकांक्षी कायिक्रमों का

    दक्रयान्द्वयन बखबूी हो रहा ह।ै

    गणतंत्र दिवस अथाित् जनता के

    हाथ में सत्ता। इस सीधी और सरल

    व्याख्या को चररताथि करना दकसी भी

    शासन व्यवस्था के दलए आसान कायि

    नहीं ह।ै परंत ुमझुे कहते हुए प्रसन्द्नता हो

    रही ह ैदक अपना गजुरात राज्य एक ऐसा

    राज्य ह ैजहां शासन की नींव में जनता के

  • 2

    दवचार हैं, जनता की दचंता ह,ैजनता का

    खयाल दनदहत ह।ै इसदलए हर

    गजुरातवासी सच्चे मायने में ‘गणतंत्र’

    का अहसास कर रहा ह।ै

    मात्र छ्ह माह के अल्पकाल में ही

    माननीय मखु्यमंत्री श्री दवजयभाई रूपाणी

    जी के नेततृ्व में गजुरात एक रोल मॉिल

    स्टेट के रूप में दवकास के मागि पर और

    अदधक तेजी से आगे बढ़ रहा ह।ै राज्य

    सरकार ‘कॉमनमेन’ को केन्द्र में रखकर,

    उनके सखु-ि:ुख की दचंता करते हुए

    संवेिनशील एवं पारिशी दनणियों के साथ

    लगातार कायिरत ह।ै आम आिमी की

    सखु-सदुवधा और मलूभतू

    आवश्यकताओ ंकी पदूति के दलए राज्य

    सरकार दनरंतर प्रयासरत ह।ै

    सवाांगीण दवकास को समदपित

    गजुरात की लोकदप्रय सरकार ने िामीणों,

    शहरी नागररकों, दकसानों, यवुाओ,ं

    आदिवादसयों, वंदचतों, गरीबों

    मदहलाओ ं सदहत तमाम वगों और

    गजुरात के तमाम क्षेत्रों के दवकास के

    दलए अनेक किम उठाए ंहैं। आज गणतंत्र

    दिवस की पवूि संध्या पर मझुे कहते हुए

    प्रसन्द्नता हो रही ह ैदक मेरी सरकार ने वाि े

    नहीं बदल्क ठोस इरािों के साथ

    पारिदशिता, दनणाियकता, संवेिनशीलता

    और गदतशीलता के साथ शासन का

    िादयत्व दनभाया ह।ै

    प्रो पीपल, प्रो एदटटव गवनेंस द्वारा

    लोक कल्याण के दलए लोगों के आंगन

    में पहुचंकर लोगों की समस्याओ ं को

    तत्काल सलुझाने के संवेिनशील प्रयास

  • 3

    प्रशासन ने दकए हैं। पंदित िीनियाल

    उपाध्याय जी के जन्द्म शताब्िी वर्ि को

    गजुरात में "गरीब कल्याण वर्ि" के रूप

    में मनाए जाने का फैसला दकया ह।ै

    भारत के हृियसम्राट प्रधानमंत्री श्री

    नरेन्द्रभाई मोिीजी के प्रेरणािायी

    मागििशिन में मखु्यमंत्री श्री दवजयभाई

    रूपाणी और उप मखु्यमंत्री श्री दनदतनभाई

    पटेल के नेततृ्व में गजुरात लोगों के संग

    और लोक उमंग से दवकास की नयी

    ऊंचाइयां छू रहा ह।ै गजुरात सरकार ने

    जनादभमखु पररश्रम यात्रा के िौरान

    जनदहत के ढेरों दनणिय दलए हैं। िाम

    दवकास हो, शहरी दवकास हो, मदहला

    सशदिकरण हो या यवुा दवकास हो,

    कृदर् क्षेत्र हो या उद्योग क्षेत्र हो, सेवा क्षेत्र

    हो या वदंचतों का दवकास हो, या दफर

    वनबन्द्धओु ं का दवकास हो। गजुरात

    सरकार ने दवकास के फल हर व्यदि तक

    पहुचंाने के दलए पररणामलक्षी कायि

    दकया ह।ै

    सरकार की योजनाओ ं का लाभ

    स्थानीय स्तर पर िामीण लोगों तक

    पहुचंा ह।ै उन्द्हें समस्याओ ंके दनराकरण

    के दलए तहसील या दजला स्तर तक भी

    ना जाना पड़े, इस उद्दशे्य के साथ मेरी

    संवेिनशील सरकार ने ‘सेवा सेत’ु

    कायिक्रम का प्रभावी अमल करके िो

    लाख से ज्यािा व्यदिगत आवेिनों का

    स्थल पर ही दनराकरण दकया ह।ै ‘प्रगदत

    सेत’ु कायिक्रम के अंतगित कलेटटर की

    अध्यक्षता में 17 दजतने दवदभन्द्न दवभागों

    के अदधकाररयों ने तहसील स्तर तक

    जाकर सामदूहक समस्याओ ंका स्थल पर

  • 4

    ही दनराकरण दकया ह।ै इन िोनों

    कायिक्रमों ने जनादभमखु शासन की

    अनभुदूत करवाई ह।ै इतना ही नहीं, राज्य

    के 300 के करीब गांवों को आधदुनक

    सदुवधाओ ं से सज्ज करके ‘स्माटि

    दवलेज’ के तौर पर दवकदसत करने के

    कायि का शभुारम्भ कर दिया ह।ै

    6000 दजतने गांवों को हाईस्पीि

    दिजीटल कनेदटटदवटी से जोड़ने की

    शरुुआत कर िी ह।ै साथ ही, तीन दजलों

    की 30 तहसीलों के 170 नगर और

    3000 गांव खलेु में शौचदक्रया से मिु

    बने हैं। गांवों-िामीणों को गौरव हो, ऐसी

    यह उपलदब्ध ही सच्चा गणतंत्र दिवस ह।ै

    हाल ही में 10,279 िाम पंचायतों के

    चनुाव सम्पन्द्न हुए। इन गांवों के

    नवदनवािदचत सरपंचों को गजुरात की

    दवकासयात्रा में सहभागी बनने का मैं

    आह्वान करता ह ।ं

    गजुरात के शहर और ज्यािा सनु्द्िर

    ज्यािा रमणीय ज्यािा आधदुनक ज्यािा

    सलामत और सरुदक्षत बनें इस प्रकार मेरी

    सरकार ने सवाांगीण आयोजन करके उस

    दिशा में ठोस आयोजन पवूिक कायि शरुु

    कर दिया ह।ै ‘स्वच्छता अदभयान’ में

    गजुरात िशेभर में अव्वल ह।ै गजुरात के

    राजकोट और सरूत शहर िशे के सबसे

    स्वच्छ 10 शहरों में शादमल हो गए हैं।

    राज्य की राजधानी गांधीनगर समि िशे

    का सविप्रथम स्माटि केदपटल दसटी बना

    ह।ै

    राज्य की तमाम

    महानगरपादलकाओ ं और

    नगरपादलकाओ ं के क्षेत्रों में ओवरहिे

  • 5

    दबजली दवतरण लाइनों को अंिरिाउंि

    केबल में रूपांतररत करने के काम को

    सैद्ांदतक मंजरूी ि े िी गई ह।ै

    अहमिाबाि, विोिरा, जामनगर और

    राजकोट जैसे महानगरों में लोगों की

    सदुवधाओ ं में बढ़ोतरी करने के दलए

    करोड़ों के खचि से अनेक योजनाएं शरुु

    की गई हैं।

    गजुरात के दलए सरिार सरोवर

    योजना जीवनरेखा के समान ह।ै हमारे

    प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्रभाई मोिीजी के सघन

    प्रयासों और हमारी सरकार की

    प्रदतबद्ता से यह योजना तेजी से साकार

    होती हुई पणूिता के कगार पर पहुचं गई ह।ै

    इस योजना के मखु्य बांध के तमाम 30

    िरवाजे लगाने का कायि हो गया ह।ै अब

    3046 दमदलयन एकड़ फुट अदतररि

    जल का संिह हो सकेगा और समि

    गजुरात को दसंचाई का पानी और

    पेयजल उपलब्ध करवाया जा सकेगा।

    बार बार पानी की कमी का सामना

    करने वाले सौराष्ट्र और कच्छ के इलाकों

    में दसंचाई और पेयजल पहुचंाने के दलए

    सरिार सरोवर नमििा योजना आधाररत

    "सौनी योजना" सौराष्ट्र के दकसानों की

    समदृद् के द्वार खोलेगी। दसंचाई के दलए

    दसफि वर्ाि पर आधाररत रहने वाले इस

    क्षेत्र के दकसान अब परूा वर्ि खेती कर

    सकें गे। सौराष्ट्र के छोटे-बड़े 115 दजतने

    िेम-जलाशयों में नमििा का जल भरने से

    इस क्षेत्र की बरसों परुानी समस्याओ ंका

    दनराकरण हुआ ह।ै

    वनबन्द्ध ु एवं आदिजादत क्षेत्रों के

    सवििाही और आधदुनक दवकास के दलए

  • 6

    सरकार प्रदतबद् ह।ै वनवासी क्षेत्रों के

    खेत और घरों तक दसंचाई और पेयजल

    उपलब्ध करवाने के दलए 4800 करोड़

    की योजना का माननीय प्रधानमंत्री श्री

    नरेन्द्र मोिीजी के जन्द्मदिवस पर शभुारम्भ

    करवाकर वनबन्द्धओु ंको बड़ी भेंट िी गई

    ह।ै

    गजुरात के प्रत्येक नागररक को

    सस्ती सरल और प्रभावी स्वास््य सेवाए ं

    उपलब्ध करवाने के दलए सरकार ने ठोस

    किम उठाए हैं। स्वस्थ तन में ही स्वस्थ

    मन बसता ह ै जो आंतररक दवकास से

    लेकर बाह्य दवकास के दलए अदनवायि ह।ै

    तमाम गजुरादतयों को स्वास््य सेवाए ं

    स्थानीय स्तर पर उपलब्ध करवाने के

    दलए मेरी सरकार ने आशीवाििरूप दनणिय

    दलए हैं। गरीबों को 1000 दजतनी

    जेनेररक िवाइयां 40 से 80 प्रदतशत कम

    कीमत पर 24 घंटे उपलब्ध करवाई जा

    सकें इसके दलए मेरी सरकार समि राज्य

    में 500 से 600 दजतने पंदित िीनियाल

    मेिीकल स्टोर शरुु करवा रही ह।ै बी. पी.

    और िायदबटीज के गरीब रोदगयों को

    आजीवन दन:शलु्क िवाइयां उपलब्ध

    करवाई जा रही हैं। करीब 11 लाख

    दजतनी गरीब गभिवती माताओ ं को

    दचरंजीवी योजना के तहत संस्थागत

    प्रसदूत की सेवाएं उपलब्ध करवाई गई हैं।

    इतना ही नहीं राज्य के िगुिम क्षेत्रों

    तक अत्यंत आधदुनक स्वास््य सेवाएं

    उपलब्ध करवाई जा सकें और आदथिक

    दपछड़े तथा आदिजादत क्षेत्रों में मेिीकल

    कॉलेजों, सपुर स्पेदशयादलटी हॉदस्पटलों

    और िायग्नोदस्टक सेवाए ं उपलब्ध हो

  • 7

    सके इसदलए राज्य सरकार ने नयी

    स्वास््य नीदत 2016 लाग ू की ह।ै इस

    नीदत के अतंगित दजला स्तर पर सरकारी

    अस्पतालों में नयी स्वदनभिर मेिीकल

    कॉलेज शरुु करने में राज्य सरकार

    प्रोत्साहन िगेी। िामीण और िगुिम क्षेत्रों

    में सपुर स्पेदशयादलटी अस्पताल की

    स्थापना के दलए भी राज्य सरकार

    सहायता प्रिान करेगी।

    महानगरपादलका क्षेत्रों के दसवाय

    राज्य में कहीं भी िायग्नोदस्टक सेंटर शरुु

    करने के दलए राज्य सरकार स्वास््य

    साधनों की खरीिी में सहायता प्रिान

    करेगी। साढ़े छह करोड़ गजुरादतयों के

    दनरामय-तन्द्िरुस्त जीवन के दलए

    कृतसंकल्प मेरी सरकार ने "मखु्यमंत्री

    अमतृम योजना", "मा योजना", "मा

    वात्सल्य योजना","मखु्यमंत्री दनिान"

    जैसी महत्वपणूि योजनाओ ं के साथ

    ऑगिन रांसप्लांट यदूनवदसिटी, इसं्टीट्यटू

    ऑफ पदब्लक हले्थ और 108 ऐम्बलुेंस

    सेवा के सदुृढ़ नेटवकि द्वारा आशीवािि

    स्वरूप कायि दकया ह।ै

    िरीरनारायण के पेट की भखू की

    दचंता करना भी राष्ट्रवाि और राष्ट्रप्रेम ही

    ह।ै उनके स्वास््य और दचदकत्सा

    सेवाओ ंकी दचंता करना ही उत्तम प्रकार

    की िशे सेवा ह।ै

    मझुे यह कहते हुए प्रसन्द्नता हो रही

    ह ैदक गजुरात में तमाम दजला तहसील

    और िामीण स्तर की प्रत्येक प्राथदमक-

    माध्यदमक शाला और आंगनबािी के

    कुल 4 लाख दजतने बालकों के स्वास््य

    की सरुक्षा के दलए राज्य सरकार प्रदत वर्ि

  • 8

    लगातार 60 दिनों तक "शाला स्वास््य

    जांच कायिक्रम" आयोदजत करती ह।ै

    इतना ही नहीं, दनिान-सलाह और

    उपचार के साथ ही आवश्यकता पड़ने पर

    ऑपरेशन भी दन:शलु्क दकया जाता ह।ै

    िशे का भदवष्ट्य नन्द्हें बालकों के

    स्वास््य पर दनभिर ह।ै ऐसे में बालकों के

    स्वास््य की दचंता करना हमारा

    संवैधादनक कतिव्य और पदवत्र दजम्मेिारी

    ह।ै कुपोर्ण साविजदनक स्वास््य की बड़ी

    समस्या ह।ै राज्य सरकार ने ‘कुपोर्णमिु

    गजुरात’ महाअदभयान शरुु दकया ह।ै

    इस योजना के अतंगित कुपोदर्त

    बालकों को खोजकर उन्द्हें बाल संजीवनी

    केन्द्रों और बाल सेवा केन्द्रों में भती

    करवाकर कुपोर्णमिु महाअदभयान को

    आगे बढाया जा रहा ह।ै मझुे आशा ह ैदक

    हम सभी साथ दमलकर आनेवाले दिनों

    में गजुरात को स्वास््य क्षेत्र में भी सबसे

    ज्यािा स्वस्थ और दनरामय राज्य बना

    सकें गे।

    हमारा गजुरात पजू्य महात्मा

    गांधीजी के आिशों को चररताथि

    करनेवाला राज्य ह।ै गजुरात के

    स्थापनाकाल से ही राज्य में शराबबन्द्िी

    लाग ूह।ै शराब के िषु्ट्प्रभाव से समाज का

    आदथिक, सामादजक और नैदतक पतन

    होता ह।ै गजुरात एक आिशि और

    अनकुरणीय राज्य बनने जा रहा ह।ै ऐसे में

    शराब के िषु्ट्प्रभाव और बरुाइयों को खत्म

    करने के दलए मेरी सरकार ने गजुरात

    नशाबन्द्िी एटट की धाराओ ं को और

    ज्यािा प्रभावी और मजबतू बनाकर

    गजुरात का गौरव बढ़ाया ह।ै

  • 9

    राष्ट्र, राज्य या समाज की प्रगदत

    दस्थरता और दवकास का मखु्य आधार

    व्यदि की मेहनत बदुद् और दनष्ठा तथा

    प्रामादणकता ह।ै राष्ट्र राज्य और समाज

    को कलंदकत कर दवकास और सखु-

    सदुवधाओ ं में अवरोध पैिा करनेवाला

    सबसे बड़ा कोई कारण ह ैतो वह भ्रष्टाचार

    ह।ै समाज से भ्रष्ट वदृत्तयों को खत्म करना

    और प्रशासन में प्रामादणकता को

    प्रोत्साहन िनेा ही आिशि सरकार की

    प्रदतबद्ता ह।ै

    हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोिी ने

    िशे में पनु: प्रामादणकता का यगु शरुु

    करने की प्रदतबद्ता के साथ दवमरुीकरण

    का जो किम उठाया ह,ै उसे समि समाज

    ने उत्साह से स्वीकार दकया और स्वागत

    दकया ह।ै गजुरातवादसयों ने कैशलेस

    इकॉनोमी और दिजीटल बैंदकंग दसस्टम

    को सहर्ि स्वीकार करके प्रामादणक

    समाज की प्रदतबद्ता व्यि की ह।ै इस

    समि प्रयास का मैं स्वागत करता ह ंऔर

    सभी नागररकों को शभुकामनाएं ितेा ह ।ं

    कृदर् हमारे िशे की अथिव्यवस्था

    की जीवनरेखा ह।ै राज्य सरकार ने

    दकसानों और पशपुालकों का दवशेर्

    खयाल रखा ह।ै प्रधानमंत्री फसल बीमा

    योजना का लाभ अदधकतम दकसानों

    तक पहुचंे इसके दलए 5 प्रदतशत

    प्रीदमयम के साथ ही राज्य सरकार द्वारा

    अदतररि 3 प्रदतशत प्रीदमयम सहायता

    प्रिान की जा रही ह।ै राज्य सरकार ने

    आठ एकड़ से ज्यािा जमीनधारक

    दकसानों को अदतररि कृदर् दबजली

    कनेटशन प्रिान करने का दनणिय करके

  • 10

    दकसानों की वर्ों परुानी मांग को परूा

    दकया ह।ै

    गजुरात के दकसान दवश्व बाजार के

    साथ जड़ुें और अपने खेत उत्पािन का

    दवशाल माकेट पा सके, इसके दलए राज्य

    की 40 खेतीबाड़ी उत्पन्द्न बाजार

    सदमदतयों को ई-नेशनल एिीकल्चर

    माकेट के साथ जोड़ा गया ह।ै परम्परागत

    खेती के बिले राज्य के दकसान वैज्ञादनक

    प्रणाली और आधदुनकतम पद्दत से

    खेती कर सकें और उसकी तालीम प्राप्त

    कर सकें इसके दलए, फामि मशीनरी रेदनंग

    एिं टेदस्टंग इसं्टीट्यशून के दनमािण के

    दलए 32 एकड़ जमीन आवंदटत करने का

    कायि शरुु दकया गया ह।ै कम वर्ाि के

    समयकाल में हमारी सरकार ने महत्वपणूि

    दनणिय लेते हुए सौराष्ट्र और मध्य गजुरात

    में तैयार फसल को बचाने के दलए 10

    घंटे दबजली उपलब्ध करवाने का

    दकसानलक्ष्यी अदभगम अपनाया ह।ै

    भाइयों और बहनों,

    गजुरात उद्योगों और औद्योदगक

    पूंजी दनवेश के दलए भी बेस्ट चॉइस ह।ै

    वाइब्रेंट गजुरात ग्लोबल सदमट की

    श्रृखंला से यह सादबत हुआ ह।ै

    कौशल्यवान यवुाधन, श्रषे्ठ ढांचागत

    सदुवधाए,ं प्रो-एदटटव गवनेंस, श्रेष्ठ

    पॉदलसी और उद्योगों के अनरुूप शांदत-

    सलामती से गजुरात ने समि दवश्व में

    अनोखा आकर्िण खड़ा दकया ह।ै वाईब्रेंट

    गजुरात-2017 में 12 दजतने िशेों की

    भागीिारी, दवदभन्द्न क्षेत्रों के नोबेल

    परुस्कार दवजेताओ ंऔर िशे-दविशे के

    110 से ज्यािा दवद्वानों और महानभुावों

  • 11

    की उपदस्थदत में कौशल्य और ज्ञान के

    दवदनयोग से गजुरात ज्यािा समदृ् हुआ

    ह।ै वाइब्रेंट गजुरात ग्लोबल सदमट में अब

    तक सब से अदधक कुल abab25578

    समझौता करार हुए हैं, जो यह सादबत

    करता ह ै दक गजुरात और भारत दनवेश

    की दृदष्ट से बेस्ट िेस्टीनेशन हैं।

    इस सदमट में छोटे और मध्यम

    उद्योगों में 18533 एमओय ु हुए हैं और

    बड़े उद्योगों में 5938 एमओय ु हुए हैं।

    जबदक स्टेरेदजकल पाटिनर के तौर पर

    गजुरात के साथ 1107 एमओय ुहुए हैं।

    यह एमओय ु गजुरात और िशे को

    दवकास की नयी दिशा की ओर ले

    जाएगंे। ऐसे दनवेशों से गजुरात और भारत

    दवश्व के समक्ष एक समथि िेस्टीनेशन के

    रूप में उभरेंगे। इस सदमट में 100 से

    ज्यािा िशेों के 33 हजार से ज्यािा

    प्रदतदनदध सीध ेसहभागी बने। सदमट के

    अतंगित 41 सेमीनार आयोदजत हुए।

    माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र

    मोिीजी के नेततृ्व में जीएसटी और ऊजाि

    जैसे अनेक क्षेत्रों में नये सधुार आए हैं।

    भारत में व्यापाररक वातावरण और सधुरा

    ह।ै प्रधानमंत्री के "मेक इन इदंिया"

    संकल्प के साथ गजुरात अब "मेक इन

    इदंिया" पर फोकस कर रहा ह।ै

    "दिजीटल इदंिया" और "स्टाटि-अप

    इदंिया" दवजन के साथ राज्य सरकार ने

    सहयोग प्रिान करने के साथ ही सहायता

    प्रिान करने का अदभगम अपनाया ह।ै

    बायोटेटनोलॉजी पॉदलसी, कृदर् व्यापार

    पॉदलसी, कुटीर उद्योग पॉदलसी और

    एयरोस्पेस एिं दिफें स पॉदलसी ने गजुरात

  • 12

    के औद्योदगक दवकास को नया बल और

    नयी दिशा प्रिान की ह।ै

    गजुरात ने "पॉदलसी दिवन स्टेट"

    के तौर पर अपनी पहचान को और ज्यािा

    मजबतू कर िशे-दविशे में दवदशष्ट स्थान

    प्राप्त दकया ह।ै इतना ही नहीं, एयरोस्पेस

    एिं दिफें स पॉदलसी द्वारा भारतीय सेना

    की तीनों इकाइयों के दलए आवश्यक

    हदथयार गजुरात में उत्पािन करने के दलए

    नया मागि स्थादपत दकया ह।ै इसके आगे

    बढ़ने पर औद्योदगक दवकास का राजमागि

    तो बनेगा, साथ ही िशे की सेवा में प्रवतृ्त

    होने का गौरव भी गजुरात को दमलेगा।

    यवुाओ ं को रोजगार दमल सके

    इसके दलए राज्य सरकार लगातार

    प्रयासरत ह।ै राज्य के प्रशासन में उत्साह

    और जोश भरने के दलए वर्ि 2016-17

    के िौरान करीब 67,000 सरकारी पिों

    पर भती करने का आयोजन भी दकया

    गया ह।ै

    भाइयों और बहनों,

    प्रत्येक गजुरातवासी के सवाांगीण

    दवकास के दलए काफी कायि हुए हैं और

    हो रह ेहैं। कई फैसले हुए हैं और हो रह ेहैं।

    गजुरात को आदथिक, सामादजक और

    नैदतक रूप से और ज्यािा समदृ् बनाने

    के दलए दनष्ठापवूिक प्रयत्न हो रह ेहैं। इस

    सेवायज्ञ में तमाम नागररकों की

    सहभादगता और उत्साहपणूि योगिान की

    आवश्यकता ह।ै सबके साथ,सहयोग

    और स्नेह पुंज से गजुरात और ज्यािा

    िदैिप्यमान बनेगा।

    आइये! हम सब गजुरात की

    दवकासयात्रा को आगे बढाने के दलए पणूि

  • 13

    दनष्ठा और समपिणभाव से प्रदतबद्

    बनें...जनता को सच्ची सत्ता की प्रतीदत

    करवाए ंऔर लोकशासन व्यवस्था को

    और सदुृढ़ बनाए।ं

    मैं पनु: सभी प्रिशेवादसयों को

    गणतंत्र दिवस की बहुत-बहुत बधाई एवं

    शभुकामनाए ंितेा ह ।ं

    जय दहन्द्ि

    जय जय गरवी गजुरात