designed by edited by nitin abhishek patidar ... ... और 1942 म जब ग ध न नण...

Click here to load reader

Post on 26-Oct-2020

1 views

Category:

Documents

0 download

Embed Size (px)

TRANSCRIPT

  • DESIGNED BY NITIN

    PATIDAR

    EDITED BY ABHISHEK PANDEY

  • Total Pages : 7 Volume : 5 2019 Free Distribution

    आईपीएस एकेडमी को बे� परफॉम�स

    इं���ूट अवाड� से नवाजा गया मानव संसाधन िवकास मं�ालय ने एकेडमी को टॉप पांच परफॉिम�ग आईसीसी म� िदया �थान

    अभय शु�ा BAMC- 5th sem

    मानव संसाधन िवकास मं�ालय ने आईपीएस एकेडमी को

    बे� परफॉम�स इं���ूट अवाड� से नवाजा गया। देशभर के

    950 सं�थान िजसम� आईआईटी और एनआईटी भी शािमल

    है इसम� आईपीएस एकेडमी को टॉप 25 वे परफॉिम�ग

    आईआईसी म� �थान िमला है। िपछले माहआईसीआई आई

    हेड �ाट�र ऑिडटो�रयम िद�ी म� एमएचआरडी िमिन�र

    रमेश पोख�रयाल िनशांक और रा�मं�ी धो�े संजय

    शामराव ने यह स�ान िदया इस समारोह म� डॉ अिनल डी

    सह�बु�े चेयरमैन एआईसीपीआई एमपी पूिनया वाइस

    चेयरमैन एआईसीटीई डॉ डी.पी. िसंह अ�� यूसीजी आिद

    मौजूद रहे।

    मानव संसाधन िवकास मं�ालय ने देश भर म� कुछ

    चुिनंदा इं���ूट को आईसीसी का दजा� िदया है यह

    इं���ूट अपने यहां ब�ो ंम� आं��े�ोरिशप को �ो�ाहन

    देने के िलए अ�णी भूिमका िनभाते ह�। सं�थान के अ��

    आिक� टे� अंचल चौधरी ने बताया िक यह अवाड� हमारे

    आं��े�ोरिशप की िदशा म� िकए काय� की सराहना पर

    मोहर लगाता है, सं�था के �ाचाय� डॉ अच�ना कीित� चौधरी ने

    बताया िक सं�था म� कई ब�े अपने �ाट�अप डालने की राह

    पर चल रहे ह�। सं�था के इं���ूट ऑफ़ इंजीिनय�रंग एंड

    साइंस इंदौर के आईआईसी �भारी �ोफेसर रमेश दुबे ने

    कहा िक सं�था के िव�ाथ� �ाट� इंिडया हैकेथॉन म� अ�ल

    आने के साथ ही िसंगापुर इंिडया हैकेथॉन म� भी भारत का

    �ितिनिध� कर रहे ह�।

    मु�मं�ी �ारा भा�र एिमन�स अवाड� से स�ािनत

    एकेडमी के चेयरमैन अचल चौधरी सर िश�ा के �े� म� उ�ृ� �दश�न करने के मामले म� आईपीएस

    एकेडमी ने एक बार िफर बाजी मारी है, म� �देश के कई

    िव�िव�ालयो ं को पीछे छोड़ते �ए आईपीएस एकेडमी ने यह

    अवाड� हािसल िकया है, म� �देश के मु�मं�ी कमलनाथ ने

    काय��म के दौरान करीब 21 उ�ोगपित, �वसायी व िविभ�

    �े�ो ंम� सेवा देने वाले सव��े�ो ंको दैिनक भा�र एिमन�ट अवाड�

    2019 को अवाड� देकर स�ािनत िकया। इसम� िश�ा, कोिचंग,

    �रयल �ेट, कॉलोनाइजर, एनीमेशन आिद के �े� म� बेहतर काय�

    �दश�न करने वाले सं�थानो ंको यह अवाड� िदया जाता है

    भा�र �ारा आयोिजत इस समारोह म� म� �देश के

    मु�मं�ी कमलनाथ ने सं�था के अ�� आिक� टे� अचल चौधरी

    को यह अवाड� देते �ए कहा की �देश ही नही ंदेश भर के िलए गव�

    की बात है िक ऐसे सं�थान हमारे �देश म� संचािलत ह� जो िक कम

    समय म� अिधक उपल�� हािसल कर िश�ा के �े� म� उ�ृ�

    �दश�न कर रहे ह� उ�ोनें शुभकामनाएं देते �ए त�र काय� करने

    और हर संभव मदद करने की बात कही है।सं�था के अ��

    आिक� टे� अचल चौधरी ने कहा िक उनके िलए यह गव� की बात

    है िक ऐसे बेहतर सं�थान का �ितिनिध� कर रहे ह�, यह अवाड�

    िकसी एक िदन की मेहनत नही ंब�� बरसो ंसे िश�ा के �े� म�

    उ�ृ� �दश�न करने वाले सम� आईपीएस प�रवार की उपल��

    है, उ�ोनें कहा िक यह अवाड� हमारे उ�ृ� काय� की सराहना पर

    मोहर है यह अवाड� हम� और भी त�र एवं लगन शील होकर काय�

    करने की श�� देता है।

  • 2019 2Knowledge Village

    ब�े, बुजुग� और भारतीय सं�ृित

    .किव ि�ितज

    BAMC 1ST SEM

    वो कोई कामयाबी नही ंजो िबना काम के

    िमली हो वो कोई खुशी नही ंजो खुशी खुशी

    िमली हो मेहनत वही ं िजसम� हम सोए पूरी

    रात नही ंवो बात ही �ा िजसम� कोई बात

    नहीवंो िज़�गी बेकार है िजसम� अड़चने ना हो

    वो अड़चने बेकार है जो बड़ी न हो और वो

    बड़ी बेकार है िजसम� खुशी न हो और वो खुशी

    तो बेकार ही है जो खुशी खुशी िमली हो बुलंद

    रहो जबतक सुधरते अ�े हालत नही ंवो बात

    ही �ा िजसम� कोई बात नही ंवो जीत ही �ा

    िजसम� िज़द न हो वो िज़द ही �ा जो तु�ारी

    िज़�गी न बनाए और वो िज़�गी ही �ा जो

    तुमने न बनाई हो अरे वही करो जो तु�े भाता

    नही ंवो बात ही �ा िजसम� कोई बात नही ं

    अिहंसा के 150 साल

    अिभषेक पा�ेय

    BAMC 3rd SEM

    आज घरो ं म� ब�े, बुजुग� और भारतीय

    सं�ृित यह तीनो ंिवपरीत िदशाओ मे जाती

    नज़र आरही है और इन तीनो को एक�

    रखना भारतीय सं�ृित को बढ़ावा देना

    माना जाएगा। जैसा की हम देख सकते ह�

    वत�मान म� हमारे आसपास, कॉलोिनयो म�,

    समाज म�, ब�ो ंको बुजुग� से कई �कार से

    दूर रखा जाता है जैसे ब�ो ंको पढ़ाई के िलए

    कही बाहर या िवदेश भेज िदया जाता है,

    कही ंजगह तो बुजुग� घर मे अकेले छो सभी

    लोग कही और जगह रहने चले जाते है या

    बुजुग� को वृ� आ�म म� छोड़ िदया जाता है।

    इस सब कारणो ंसे आज के ब�े भारतीय

    सं�ृित से परे ह